महासागरों का ज्ञान

महासागरों का ज्ञान
(Ocean’s GK//Mahasagaron ka Gyan)
विश्व के महासागरों का ज्ञान (World’s Oceans GK)
  • पृथ्वी के भूतलीय क्षेत्रफल का 70.92 प्रतिशत भू-भाग महासागरीय है। जबकि 29.08 प्रतिशत क्षेत्रफल पर महाद्वीप स्थित है।
  • पृथ्वी पर सात महाद्वीप एवं पांच महासागर स्थित है।
  • पृथ्वी के समस्त जल का 88.9 प्रतिशत भाग महासागर व अन्तर्देशीय समुद्रों के रूप में विस्तृत है। शेष 11.1 प्रतिशत हिमनद, नदी, तालाब, झील एवं भूमिगत जल है।

प्रशान्त महासागर (Pacific Ocean)
  • प्रशान्त महासागर उत्तरी व दक्षिणी अमेरिका तथा एशिया व आस्ट्रेलिया महाद्वीप के बीच स्थित है। प्रशान्त महासागर अमेरिका और एशिया को पृथक करता है।
  • इसका आकार त्रिभुजाकार है तथा क्षेत्रफल लगभग 16,52,46,200 वर्ग किमी. है।
  • प्रशान्त महासागर संसार का सबसे बड़ा, सबसे गहरा एवं सबसे प्राचीनतम महासागर है।
  • प्रशान्त महासागर में फिलीपाइन्स के पश्चिम में मेरियाना ट्रेंच विश्व की सबसे गहरी गर्त (खाई) है। इसकी गहराई 11034 मीटर यानी लगभग 36000 हजार फीट है। अटाकामा एवं टोंगा खाई भी इसी में है जिनकी गहराई क्रमश: 8000 मी. व 9000 मी. है।
  • प्रशान्त महासागर की ज्वालामुखी श्रृंखला कोआग की अंगूठी (Ring of Fire) भी कहते हैं।
  • प्रशान्त महासागर का शीर्ष बेरिंग जलडमरूमध्य पर है, जो घोड़े के खुर की आकृति का है और ज्वालामुखी पर्वतों तथा छोटी छोटी पहाड़ियों से घिरा हुआ बेसिन बनाता है।
  • प्रशांत महासागर की औसत गहराई लगभग 14,000 फुट है तथा अधिकतम गहराई लगभग 35,400 फुट है।
  • प्रशान्त महासागर में 20 हजार से भी अधिक द्वीप है। लेकिन इनका क्षेत्रफल कम है। महासागरीय द्वीप प्रवाल तथा ज्वालामुखी प्रक्रियों से निर्मित है।
  • प्रशांत महासागर का वह भाग, जो कर्क रेखा तथा मकर रेखा के मध्य में है, मध्य प्रशांत महासागर कहा जाता है।
  • प्रशान्त महासागर का क्षेत्रफल पृथ्वी के सम्पूर्ण स्थलमंडल के क्षेत्रफल से भी अधिक है।
  • प्रशान्त महासागर में बेंरिग सागर, ओखोटस्कम सागर, जापान सागर, पीत सागर एवं पूर्वी चीन सागर अवस्थित है।

अटलांटिक महासागर (Atlantic Ocean)
  • अटलांटिक महासागर, यूरोप तथा अफ्रीका महाद्वीपों को नई दुनिया के महाद्वीपों से पृथक करता है। इसे अंध महासागर भी कहते है।
  • इसका क्षेत्रफल लगभग 8,24,41,500 वर्ग किमी. है। विश्व का दूसरा सबसे बड़ा महासागर है।
  • इसका विस्तार उत्तरी अमेरिका, दक्षिणी अमेरिका, यूरोप, अफ्रीका से आर्कटिक महासागर तक है।
  • अटलांटिक महासागर की आकृति अग्रेजी के S व 8 के समान है।
  • इस महासागर का नाम ग्रीक संस्कृति से लिया गया है जिसमें इसे नक्शे का समुद्र भी बोला जाता है। लंबाई की अपेक्षा इसकी चौड़ाई बहुत कम है।
  • अटलांटिक महासागर के दोनों किनारों विशेषकर उत्तरी भाग में अनेक तटीय सागर है जो मग्न तटों पर स्थित है, जैसे-हडसन की खाड़ी, बाल्टिक सागर व उत्तरी सागर आदि।
  • उत्तरी अटलांटिक जलमार्ग जो पश्चिम यूरोप को उत्तरी अमेरिका से जोड़ता है, विश्व का सबसे व्यस्त एवं महत्त्वपूर्ण जलमार्ग है।
  • अटलांटिक महासागर का सबसे गहरा गर्त प्यूरिटो रिको गर्त (8,392 मीटर) है।
  • भू-मध्य रेखा के निकट सेंट पॉल द्वीप समूह में स्थित चोटी अटलांटिक महासागर की सबसे तीखी चोटी है।
  • दक्षिणी अटलांटिक महासागर में स्थित प्रमुख ज्वाललामुखी द्वीपों में बरमूडा प्रवाल द्वीप, असेंसन, ट्रिस्ता दी कान्हाव, सेंट हेलेना, गुआ एवं बोवेट द्वीप है।

हिन्द महासागर (Indian Ocean)
  • हिन्द महासागर को अर्द्धमहासागर भी कहा जाता है। इसका उत्तरी किनारा बहुत ही कटा-फटा है। औसत गहराई लगभग 4000 मी. है।
  • यह एकमात्र महासागर है, जिसका नाम किसी देश के नाम पर रखा गया है → हिन्दुस्तान : हिन्द महासागर और इंडिया : इंडियन ओसियन।
  • हिन्द महासागर → क्षेत्रफल एवं विस्तार की दृष्टि से विश्व का तीसरा बड़ा महासागर है। इसका क्षेत्रफल लगभग 7,34,25,500 वर्ग किमी. है।
  • हिन्द महासागर का आकार अंग्रेजी वर्णमाला के M के समान है।
  • हिन्द महासागर में जावा द्वीप के दक्षिण व उसके समानांतर स्थित सुंडा गर्त (8,152 मीटर) है। डायमेंटिना गर्त दक्षिणी-पूर्वी आस्ट्रेलियन बेसिन में स्थित है यह सुंडा गर्त से गहरी गर्त है।
  • हिन्द महासागर में स्थित अधिकांश द्वीप महाद्वीपीय खंडों से टूटकर अलग हुए भाग हैं, जैसे अंडमान-निकोबार द्वीप समूह, श्रीलंका, मेडागास्कर व जंजीबार आदि।
  • भारत के दक्षिण पश्चिम तट के समीप लक्षद्वीप व मालदीव प्रवाल द्वीपों के उदाहरण हैं।
  • मॉरीशस व रीयूनियन द्वीप ज्वालामुखी प्रक्रिया के उदाहरण है।

दक्षिणी महासागर (Southern Ocean)
  • यह दक्षिणी ध्रुव पर स्थित अन्टार्कटिका महाद्वीप के चारों ओर फैला हुआ है। क्षेत्रफल की दृष्टि से यह चौथा बड़ा महासागर है।
  • इसे अन्टार्कटिका महासागर (Antarctica Ocean) या दक्षिणी ध्रुवीय महासागर भी कहते है।
  • इसका क्षेत्रफल लगभग 3 करोड़ वर्ग किमी. है।
  • अंटार्कटिक महासागर में अनेक प्लावी हिमशैल (आइसबर्ग) तैरते रहते हैं। कुछ हिमशैल तैरते-तैरते समीपस्थ अन्य महासागरों में भी चले जाते हैं।
  • ह्वेल मछली के शिकार के लिए भी यह महासागर महत्वपूर्ण माना जाता है और यहाँ से ह्वेल का काफी व्यापार होता है।
  • रॉस द्वीप (Ross Island) अंटार्कटिका महाद्वीप की मुख्यभूमि के समीप चार ज्वालामुखियों द्वारा बनाया गया एक द्वीप है। यह अंटार्कटिका के विक्टोरिया धरती नामक क्षेत्र में रॉस सागर की मैक्मरडो खाड़ी में स्थित है।
  • दक्षिण ध्रुवीय महासागर के सागर के प्रमुख सागर है →
  • बेलिंग्सहाउज़ेन सागर, राजा हाकोन सागर, रॉस सागर, लाज़ारेव सागर, वेडेल सागर, स्कोशिया सागर आदि ।

उत्तरध्रुवीय महासागर (Northeastern ocean)
  • पृथ्वी के उत्तरी गोलार्ध में स्थित उत्तरीध्रुवीय महासागर या आर्कटिक महासागर (Arctic Ocean), जिसका विस्तार अधिकतर आर्कटिक उत्तर ध्रुवीय क्षेत्र में है।
  • इसका क्षेत्रफल लगभग 1 करोड़ 40 लाख वर्ग किमी. है।
  • विश्व के पांच प्रमुख समुद्री प्रभागों (पांच महासागरों) में से यह सबसे छोटा और उथला महासागर है।
  • कुछ महासागरविज्ञानी इसे आर्कटिक भूमध्य सागर या केवल आर्कटिक सागर कहते हैं और इसे अन्ध महासागर के भूमध्य सागरों मे से एक मानते हैं।
  • ग्रीष्म काल में यहां की लगभग 50% बर्फ पिघल जाती है।
  • आर्कटिक महासागर का आकार अंग्रेजी वर्णमाला के “D” के समान है।
  • इस महासागर का सबसे गहरा गर्त यूरेशिया बेसिन (5450 मी.) है।

Post a Comment

0 Comments